भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मरने के बाद / नवीन नीर

Kavita Kosh से
गंगाराम (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:33, 11 फ़रवरी 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नवीन नीर |संग्रह= }} <Poem> मरने के बाद मेरी लाश को जला...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मरने के बाद मेरी लाश को
जलाना ना
दफ़नाना ना
बल्कि काल-चक्र के किसी पेड़ पर
उल्टा टाँग देना
किसी कंकाल की तरह

ताकि मैं मरने के बाद तो
इस दुनिया को
सीधी तरह देख सकूँ ।