भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महकता मरूआ / सतीश छींपा

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:51, 14 जनवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सतीश छींपा |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}}<poem>जब हम मिले थे पीपल…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब हम मिले थे
पीपल पर पक रही थी
भरभटी
यौवन पर था
बोगनबेलीया
मरूआ महक रहा था
चमक रहा था चेहरा चम्पा का
अब-
पीपल से पत्ते झरने लगे है
नंगी है शाखें शहतूत की
गूलमोहर-
उदास खड़ा है
नीम पर भी तारी है
पीलापन
और हम-
एक दूजे से दूर है।