भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

महक नहीं आती काँटों से / निर्मल शुक्ल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:55, 15 फ़रवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निर्मल शुक्ल |संग्रह= }} {{KKCatNavgeet}} <poem> पटा रहा दिन सन्…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पटा रहा दिन सन्नाटों से
ऐसे में अनुवाद करें क्या
महक नहीं आती काँटों से
इस पर वाद-विवाद करें क्या

बोनों की हिक़मत तो देखो
चूम रहे
मेघों के गाल
काग़ज़ की
शहतीरें थामें
बजा रहे सब के सब थाल

परछाईं हारी नाटों से
ऐसे में संवाद करें क्या

चट्टानों पर धूप चढ़ी तो
शिखर हुए
हिम से कंगाल
गर्म हवाओं के
दंगल ने
नष्ट किया कुल साज-सँभाल

पाला है बन्दर-बाँटों से
ऐसे में प्रतिवाद करें क्या