भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँगूगी नहीं क्षमा / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी उद्धत अनास्था
से उपजी कटु वाणी
चूर-चूर कर जाती है
मेरी संवेदनाओं से
निर्मित्त कोमल कान्त नातों को
मुझको ही कर जाती
बेचैन रातों को
अश्वत्थामा की मनोग्रन्थि सी
ही, यह मेरी विकृति है
टूटे हुये विश्वासों की
चरम परिणति है
मिलता है दंड तो
भोगूंगी उसको मैं
मिलने दो मुझको सजा
मांगूगी नहीं क्षमा आज।