भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँसपिंड मैं हूँ नहीं केवल / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:40, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर नहीं सकते अगर
नारीत्व का सम्मान
अस्मिता मेरी अगर
पाये नहीं पहचान
तो त्याज्य हो मेरे लिये तुम पुरुष।
एक व्यक्तित्व हूँ
नहीं हूँ माँसपिंड केवल
भोग्या केवल नहीं
तुम भोग को आतुर
तो त्याज्य हो मेरे लिये तुम पुरुष।
नारी हूँ गरिमामयी
मैं हूँ न पाषाणी
स्नेहधारा पर करोगे
अगर मनमानी
तो त्याज्य हो मेरे लिये तुम पुरुष।
कल्याणकारी इस मनीषा को
अगर दो मान
निष्कलुष आलोकमय
निज स्नेह का दो दान
तभी होगे ग्राह्य तुम हे पुरुष।