भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ कितनी प्यारी / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:50, 27 सितम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दिविक रमेश |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ बोली, तुम नटखट बंदर
कैसे तुमको मैं समझाऊँ!
मैं बोला, बस यूँ ही अम्माँ
प्यार करो तुम, इतना चाहूँ!

माँ बोली, अच्छा अब आ तू
आ तेरे मैं बाल संवारूँ।
मैं बोला माँ, आऊँगा पर
आता है जैसे कंगारू!

माँ बोली, तू खा-पीकर के
हाथी-सा मोटा हो जा ना!
मैं बोला, तू पहले मुझको
हाथी जैसी पूँछ लगा ना!

माँ बोली तू मेरा भालू,
हाथी, बंदर, शेर सभी कुछ,
मैं बोला, माँ इसीलिए तो
मेरा भी तुम ही हो सब कुछ।

माँ बोली, हँस, अच्छा बाबा
तू जीता, ले मैं ही हारी।
गोदी में चढ़, झट मैं बोला-
होती है माँ कितनी प्यारी!