भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

माँ की याद / वीरेन डंगवाल

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:21, 12 जनवरी 2008 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वीरेन डंगवाल |संग्रह=दुष्चक्र में सृष्टा / वीरेन डंगव...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज




क्या देह बनाती है माँओं को ?

क्या समय ? या प्रतीक्षा ? या वह खुरदरी राख

जिससे हम बीन निकालते हैं अस्थियाँ ?

या यह कि हम मनुष्य हैं और एक

सामाजिक-सांस्कृतिक परम्परा है हमारी

जिसमें माँऎँ सबसे ऊपर खड़ी की जाती रही हैं

बर्फ़ीली चोटी पर,

और सबसे आगे

फ़ायरिंग स्क्वैड के सामने ।