भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माँ तुझको शीश नवाता हूँ / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:06, 3 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुलवंत सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ …
तेरे चरणों की रज पाकर,
अभिभूत हुआ मैं जाता हूँ
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...

आशीष वचन सुन तेरे मुंह से,
मैं फूला नहीं समाता हूँ
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...
ममता तेरी जब भी पाता,
मैं राजकुँअर बन जाता हूँ।
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...
 
गम मुझको हैं छू नहीं पाते,
आंचल जब तेरा पाता हूँ
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...
  
अवगुण मेरे ध्यान न लाये,
मैं हर दिन माफी पाता हूँ
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...
 
मेरी दुनिया तू ही माँ है,
तुझमें ही सब कुछ पाता हूँ
माँ तुझको शीश नवाता हूँ। माँ ...