भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

माचिस / याद ना आए कोई

Kavita Kosh से
Sandeep Sethi (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:26, 21 फ़रवरी 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKFilmSongCategories |वर्ग=अन्य गीत }} {{KKFilmRachna |रचनाकार=?? }} <poem>याद न आए कोई लहू न …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

याद न आए कोई
लहू न रुलाये कोई

हाय, अखियों में बैठा था
अखियों से उठ के, जाने किस देश गया
जोगी मेरा जोगी, वे राँझा मेरा राँझड़ा
मेरा दरवेश गया, रब्बा
दूर न जाए कोई
याद न आए कोई ...

शाम के दिये ने आँख भी न खोली
अन्धा कर गयी रात
जला भी नहीं था, देह का बालन
कोयला कर गयी रात, रब्बा
और न जलाए कोई
याद न आए कोई ...