भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मिट्ठू, हमसे बोलो / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:31, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रकाश मनु |अनुवादक= |संग्रह=बच्च...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पेड़ों में छुप क्यों रहते हो
मीठे स्वर में क्या कहते हो,
घूमा करते डाली-डाली
क्यों तुमको भाती हरियाली?

राम-राम सीखा है किससे,
राज जरा-सा खोलो तो!
मिट्ठू, हमसे बोलो तो!

आजादी के अजब दिवाने
भरते हो अलमस्त उड़ानें,
चुस्त परों से उड़ते ऐसे
नन्हा-सा जहाज हो जैसे!

आसमान से बातें करने
पंख सजीले तोलो तो!
मिट्ठू, हमसे बोलो तो!