भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"मिथिला सन इतिहास ककर? / बबुआजी झा 'अज्ञात'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बबुआजी झा 'अज्ञात' |अनुवादक= |संग्र...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
 
पंक्ति 14: पंक्ति 14:
  
 
पावन-भूमि विदेहक भारी
 
पावन-भूमि विदेहक भारी
तलसं तें क्षीरॊद-कुमारी
+
तलसं तें क्षीरोद-कुमारी
 
लेलनि जन्म स्वयं यज्ञस्थल
 
लेलनि जन्म स्वयं यज्ञस्थल
 
व्याज बना मिथिलेशक हर
 
व्याज बना मिथिलेशक हर
पंक्ति 28: पंक्ति 28:
 
ज्ञानक तत्व जनक संऽ लै छथि
 
ज्ञानक तत्व जनक संऽ लै छथि
 
कर्म योगि जनकक गीतामे
 
कर्म योगि जनकक गीतामे
उपमा दै छथि दामॊदर
+
उपमा दै छथि दामोदर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
  
पंक्ति 54: पंक्ति 54:
 
गार्गी ब्रह्मक व्या‌‌ख्या पर
 
गार्गी ब्रह्मक व्या‌‌ख्या पर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
  
 
महातपश्वी नरपति निमिसन
 
महातपश्वी नरपति निमिसन
पंक्ति 87: पंक्ति 86:
  
 
जनम-अवधि जे विद्या देलनि
 
जनम-अवधि जे विद्या देलनि
देनहुं नहिं किछु ककरॊ लेलनि
+
देनहुं नहिं किछु ककरो लेलनि
रहथि विज्ञ भवनाथ लॊकमे
+
रहथि विज्ञ भवनाथ लोकमे
 
विदित अयाची मिश्र मगर
 
विदित अयाची मिश्र मगर
  
पंक्ति 111: पंक्ति 110:
  
 
जनिका जीति सकथि नहि वाणी
 
जनिका जीति सकथि नहि वाणी
भेल तनिक तेँ गाम नवाणी
+
भेल तनिक तें गाम नवाणी
 
बच्चा झा सन सर्व विजेता
 
बच्चा झा सन सर्व विजेता
 
तत्व-प्रणेता के दोसर?
 
तत्व-प्रणेता के दोसर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
  
लक्ष्मीनाथ गॊसाँइ मनस्वी
+
लक्ष्मीनाथ गोसाँइ मनस्वी
 
सिद्ध पुरुष अत्यन्त तपस्वी
 
सिद्ध पुरुष अत्यन्त तपस्वी
 
जाथि खराम पहिरने धारक
 
जाथि खराम पहिरने धारक
केहनॊ दुस्तर धारा पर
+
केहनो दुस्तर धारा पर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
  
 
उपाध्याय श्रीमदन सिद्ध जन
 
उपाध्याय श्रीमदन सिद्ध जन
 
छला विदित मङरौनिक अभिजन
 
छला विदित मङरौनिक अभिजन
जनिक सुखाइत छलनि व्यॊम मे
+
जनिक सुखाइत छलनि व्योम मे
 
आश्रयहीन सदा अम्बर
 
आश्रयहीन सदा अम्बर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
पंक्ति 136: पंक्ति 135:
 
गद्य काव्य अछि जते आधुनिक
 
गद्य काव्य अछि जते आधुनिक
 
सबसँ बढ़ि प्राचीन मैथिलीक
 
सबसँ बढ़ि प्राचीन मैथिलीक
के न जनै अछि ज्यॊतिरीश्वरक
+
के न जनै अछि ज्योतिरीश्वरक
 
वर्ण-समन्वित रत्नाकर
 
वर्ण-समन्वित रत्नाकर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
पंक्ति 148: पंक्ति 147:
 
शंकर दत्त गरौल-निवासी
 
शंकर दत्त गरौल-निवासी
 
हारल जखन मल्ल जन राशी
 
हारल जखन मल्ल जन राशी
महाव्याघ्र केँ चीरि फेकलनि
+
महाव्याघ्र कें चीरि फेकलनि
 
नयपालेसक आज्ञा पर
 
नयपालेसक आज्ञा पर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
पंक्ति 154: पंक्ति 153:
 
पहलमान बोतल बलशाली
 
पहलमान बोतल बलशाली
 
रहथि नवादा गामक लाली
 
रहथि नवादा गामक लाली
पकड़ि बाघ केँ पटकि मारलनि
+
पकड़ि बाघ कें पटकि मारलनि
 
अकस्मात नहि संशय – डर
 
अकस्मात नहि संशय – डर
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
 
मिथिला सन इतिहास ककर?
  
गॊनू झा सन धूर्त शिरॊमणि
+
गोनू झा सन धूर्त शिरोमणि
 
रहथि एतय नहिँ के जनैत छनि?
 
रहथि एतय नहिँ के जनैत छनि?
 
प्रत्युत्पन्न मतित्वक गाथा
 
प्रत्युत्पन्न मतित्वक गाथा

08:58, 10 मार्च 2014 के समय का अवतरण

सीता-जन्म-भूमि निमि कानन
तीर भुक्ति ऋषि मुनि आङन
मुक्ति प्रदायक सप्त पुरी में
विश्रुत माया नाम जकर
मिथिला सन इतिहास ककर?

पावन-भूमि विदेहक भारी
तलसं तें क्षीरोद-कुमारी
लेलनि जन्म स्वयं यज्ञस्थल
व्याज बना मिथिलेशक हर
मिथिला सन इतिहास ककर?

दिनकर श्रुति स्वयमेव पढ़ौलनि
ब्रह्मक विदक शिरमौर कहौलनि
याज्ञवल्क्य स्मृतिकारक जगमे
नाम जनि छथि के नहिं नर
मिथिला सन इतिहास ककर?

व्यासतनय शुकदेव अबै छथि
ज्ञानक तत्व जनक संऽ लै छथि
कर्म योगि जनकक गीतामे
उपमा दै छथि दामोदर
मिथिला सन इतिहास ककर?

नृप त्रिशंकुकें स्वर्ग पठौलनि
देव विरॊधे जानति पौलनि
तनिका नभ नक्षत्र बनौलनि
विश्वामित्र तपस्या पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

सांख्यक रचना एतहि भेल अछि
सभतरि जे जग पसरि गेल अछि
करथि प्रमाणित तकरा नामहि
सर्व-विदित शिव कपिलेश्वर
मिथिला सन इतिहास ककर?

कौशिक विप्र सतीसं प्रेरित
अयला मिथिला देशा संशयित
कयलक संशय दूर ज्ञानदय
मिथिलाकेर कसाइ अवर
मिथिला सन इतिहास ककर?

जनक नरेशक सभा सॊहाओन
बड़-बड़ ज्ञानी जनक जुटाओन
याज्ञवल्क्य सं प्रश्न करैछथि
गार्गी ब्रह्मक व्या‌‌ख्या पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

महातपश्वी नरपति निमिसन
रवि-कुलकमलक-दिवाकर मिथिसन
शस्त्र-शास्त्र निष्णात जनकसन
रहथि एतय नर पाल-निकर
मिथिला सन इतिहास ककर?

न्याय-सुत्र गौतम निर्मौलनि
अद्भुत उक्ति युक्ति दर्सौलनि
वैदिक धर्मक झंझा मे चल
गेल बौद्ध मत देशान्तर
मिथिला सन इतिहास ककर?

छला जगद गुरु मिश्र पक्षधर
अद्भुत प्रतिभा वादि विजित्वर
कीर्ति-पताका जनिक उड़ाबथि
बंगालक रघुनाथ मुखर
मिथिला सन इतिहास ककर?

वाचस्पति-सन्निभ वाचस्पति
रहथि असन्तति ठाढ़िक सन्तति
भामतीक बल्लभ से लिखलनि
टीका द्वादश दर्शन पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

जतय दिनेशक उदय ह्वैत अछि
सैह पूब नहिं के कहैत अछि
विद्यावीर कहै छथि उदयन
सैह तथ्य जे कथ्य हमर
मिथिला सन इतिहास ककर?

जनम-अवधि जे विद्या देलनि
देनहुं नहिं किछु ककरो लेलनि
रहथि विज्ञ भवनाथ लोकमे
विदित अयाची मिश्र मगर

मिथिला सन इतिहास ककर?
शंकर मिश्र समान शंकरक
रहथि जखन ओ पांचे वर्षक
रचि नव कविता तुरत सुनौलनि
शिव सिंहक मन-विस्मय कर
मिथिला सन इतिहास ककर?

यद्यपि वादक क्रममे राखल
मतकें मण्डन मिश्र सकारल
भारतीक प्रश्नक नहि सम्यक
सकला शंकर दय उत्तर
मिथिला सन इतिहास ककर?

रघुनन्दन प्रिय शिष्य महेशक
आधिपत्य लहि मिथिला देशक
आबि चढ़ौलनि भक्ति भाव सँ
गुरु वर्यक पद पंकज पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

जनिका जीति सकथि नहि वाणी
भेल तनिक तें गाम नवाणी
बच्चा झा सन सर्व विजेता
तत्व-प्रणेता के दोसर?
मिथिला सन इतिहास ककर?

लक्ष्मीनाथ गोसाँइ मनस्वी
सिद्ध पुरुष अत्यन्त तपस्वी
जाथि खराम पहिरने धारक
केहनो दुस्तर धारा पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

उपाध्याय श्रीमदन सिद्ध जन
छला विदित मङरौनिक अभिजन
जनिक सुखाइत छलनि व्योम मे
आश्रयहीन सदा अम्बर
मिथिला सन इतिहास ककर?

जन-नायक सलहेसक महिमा
लॊरिक कारू चूहर-गरिमा
दीना भद्री मनसारामक
गाथा अछि जनजिह्वा पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

गद्य काव्य अछि जते आधुनिक
सबसँ बढ़ि प्राचीन मैथिलीक
के न जनै अछि ज्योतिरीश्वरक
वर्ण-समन्वित रत्नाकर
मिथिला सन इतिहास ककर?

विद्यापति कवि कोकिल सुमना
सेवथि जनिका शिव बनि उगना
दूर-दूर धरि वृष्टि करै अछि
जनिक गीत – रस धाराधर

मिथिला सन इतिहास ककर?
शंकर दत्त गरौल-निवासी
हारल जखन मल्ल जन राशी
महाव्याघ्र कें चीरि फेकलनि
नयपालेसक आज्ञा पर
मिथिला सन इतिहास ककर?

पहलमान बोतल बलशाली
रहथि नवादा गामक लाली
पकड़ि बाघ कें पटकि मारलनि
अकस्मात नहि संशय – डर
मिथिला सन इतिहास ककर?

गोनू झा सन धूर्त शिरोमणि
रहथि एतय नहिँ के जनैत छनि?
प्रत्युत्पन्न मतित्वक गाथा
के न जनै अछि आपामर?
मिथिला सन इतिहास ककर?