भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मीरा को फिर नचाओ / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:26, 18 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम ही करवाओंगे मुझसे सब कुछ श्रीकृष्ण!
यह मात्र प्रलाप नहीं
काव्य चेतना का संकल्प है
यह कृष्ण लीला की प्रगाढ़ अनुभूति है।
जो मेरी नस-नस में,
मेरे मन-मस्तिष्क में और मेरी आत्मा में
व्याप्त हो गई है।
हे योगिराज! मुझे निमित्त बना
कर लीला करो प्रभु!
सुदर्शन चक्र घुमाओ प्रभु
दिशाहीन अर्जुन को फिर-फिर
समझाओ प्रभु!
मेरी विनय स्वीकार करो श्रीकृष्ण!
मीरा को फिर नचाओ
गोपाल!