भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुकद्दमा / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अरे साहेब!
एक मुकद्दमा तो उस शहर पर भी बनता है

जो हत्यारा है–
 सरसों में प्रेमी आँख-मिचौलियों का
और उस उस मोबाइल को भी घेरना है कटघरे में
जो लुटेरा है–
 सरसों सी लिपटती हँसी-ठिठोलियों का
 हाँ-
उस एयर कंडीशन की भी रिपोर्ट लिखवानी है
जो अपहरणकर्त्ता है-
गीत गाती पनिहारन सहेलियों का
और उस मोबाइल को भी सीखचों में धकेलना है
जो डकैत है-
फुसफुसाते होंठों-चुम्बन-अठखेलियों का
उस विकास को भी थाने में कुछ घंटे तो बिठाना है
जिसने गला घोंटा;
बासंती गेहूं-जौ-सरसों की बालियों का;
लेकिन इनका वकील खुद ही रिश्वत ले बैठा है
फीस इनसे लेता है;
और पैरोकार है शहर की गलियों का
ओ साहेब!
आपकी अदालत में पेशी है इन सबकी
कुछ तो हिसाब दो -
उन मारी गयी मीठी मटर की फलियों का
                   -0-