भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक़द्दर ने मुसलसल ग़म दिए हैं / हरिराज सिंह 'नूर'

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:34, 29 अक्टूबर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुक़द्दर ने मुसलसल ग़म दिए हैं।
मगर हम शान से फिर भी जिए हैं।

परस्तारे-वफ़ा होकर भी हारे,
सर अपना ख़म इसी से हम किए हैं।

हवा ने छीन ली हम से बुलंदी,
ये पस्ती, जिससे हम यारी किए हैं।

सज़ा को काट लें अब हम ख़ुशी से,
लबों को इसलिए अपने सिए हैं।

ज़माने में वफ़ा नकली मिलेगी,
पता है जिनको, वो आँसू पिए हैं।

हवा-ए-तेज़ में जलना कठिन है,
मगर वो अज़्मे-मुहकम के दिए हैं।

अभी दिल ‘नूर’ का टूटा नहीं है,
ग़मों की अंजुमन ख़ुद में लिए हैं।