भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुक्त हो गये हम / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:15, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जानते थे अगर-
प्रेममय जीवन
की आयु है छोटी सी-
तो जी लेते भरपूर
छोटी सी आयु को।
पी लेते घूंट घूंट
प्रेम का मधुरस
पाये न तोड़ वर्जनाओं
की सांकल तुम
हाय! जिये घुट-घुट के
होंठो को सिये।
पिये न दो घूंट
खुशियों के जाम
पूरी तरह इसीलिये
मर भी तो पाये न
प्यास चाहतों की
लिये-लिये आंखों में
टूटे छितरे तिनके
अधूरे सपनों के
पीछे बिखर गये
अटके रहे प्राण
हाय! फंसे-फंसे
मोह जाल में भटके कहाँ-कहाँ?
छाया की न्याईं
एहसासों की दुनिया में
लटके संग-संग
बहुत हो गया अब
तोड़ो ये कारा।
मोहक संबंधों की
नेहिल अनुबंधों की
भोगी है बहुत सजा
बड़भागी ने मेरे-
मेरे हतभागी ने
जाओ! जाओ पंछी
उड़ जाओ मुक्त गगन में
ज्योति में ज्योत बनो तुम
मुक्त करती हूँ तुमको
क्षमाशील होकर
होती हूँ स्वयं मैं
मुक्त...।