भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मुझको जबाब दे वह जो लाजबाब कर दे / ब्रह्मदेव शर्मा

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:32, 31 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ब्रह्मदेव शर्मा |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुझको जबाब दे वह जो लाजबाब कर दे।
मुझमें मुझी-सा कोई लाकर शबाब भर दे॥

वो मुझसे रूठ जाये तो मैं उसे मना लूँ
मैं उससे चाहकर भी रूठूँ न वह असर दे।

नाकामियों ने अक्सर गुमराह ज़िन्दगी की,
बेचैनियों में कोई खुशियों की इक खबर दे।

जिसको भी देख ले तू डूबा हुआ घृणा में,
मेरे खुदा उसे तू प्यारी-सी इक नज़र दे।

पगडंडियाँ बड़ी कर राहें बना दे चौड़ी,
कम कर दिलों की दूरी चाहत भरी सहर दे।

गाँवों के वास्ते मैं शहरों को भूल जाऊँ,
शहरों में गाँव जैसा कोई तो इक शहर दे।