भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मुझको सुननी हैं / सुषमा गुप्ता" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 21: पंक्ति 21:
 
मुझको सुननी हैं हज़ार-हा धडकनें,
 
मुझको सुननी हैं हज़ार-हा धडकनें,
 
मुझको सुननी हैं सर्द आहें‌ और ठंडी चीखें ।
 
मुझको सुननी हैं सर्द आहें‌ और ठंडी चीखें ।
मुझको जलाने हैं अपने ही माँस के टुकड़े , मुझको सेंकना हैं उन‌ पर नरम हाथों की दिलफरेब लकीरों को ।
+
मुझको जलाने हैं अपने ही माँस के टुकड़े ,  
 +
मुझको सेंकना हैं उन‌ पर नरम हाथों की दिलफरेब लकीरों को ।
  
मेरे मन का तार मेरी नाभि से नहीं जुड़ता, वो जुड़ता है  मेरे पैर के तलवे के  तिल से कहीं ।
+
मेरे मन का तार मेरी नाभि से नहीं जुड़ता,  
मेरे जिस्म की रगों से लहू निकालो ज़रा , उनमें ग़मज़दा हारो का बयां बहने दो ।
+
वो जुड़ता है  मेरे पैर के तलवे के  तिल से कहीं ।
 +
मेरे जिस्म की रगों से लहू निकालो ज़रा ,  
 +
उनमें ग़मज़दा हारो का बयां बहने दो ।
 
मुझको बस मेरे ही जैसा नहीं रहना,  
 
मुझको बस मेरे ही जैसा नहीं रहना,  
 
मेरे अंदर हज़ार-हा किरदारों को रहने दो‌
 
मेरे अंदर हज़ार-हा किरदारों को रहने दो‌

22:31, 28 मई 2019 के समय का अवतरण


मुझको अपने होने को जुनूँ की हद तक मिटाना है ।
मुझे जीने हैं किरदार बहुत सारे‌
और नकार देना है मेरा मुझ जैसा होने को।

अपनी आँखों में रखनी है मुझे हज़ार आँखे‌।
उन सबकी आँखें ,जो‌ धोखा देते भी हैं, धोखा खाते भी हैं।
जो प्रेम करते भी हैं और बेज़ार भी हो जाते हैं।
जो लुटते हैं शिद्दत से , जो शिद्दत से लूट भी जाते हैं ।

मुझको उन सबके दिल रखने हैं अपने‌‌ सीने में ।

मुझको सुननी हैं हज़ार-हा धडकनें,
मुझको सुननी हैं सर्द आहें‌ और ठंडी चीखें ।
मुझको जलाने हैं अपने ही माँस के टुकड़े ,
मुझको सेंकना हैं उन‌ पर नरम हाथों की दिलफरेब लकीरों को ।

मेरे मन का तार मेरी नाभि से नहीं जुड़ता,
वो जुड़ता है मेरे पैर के तलवे के तिल से कहीं ।
मेरे जिस्म की रगों से लहू निकालो ज़रा ,
उनमें ग़मज़दा हारो का बयां बहने दो ।
मुझको बस मेरे ही जैसा नहीं रहना,
मेरे अंदर हज़ार-हा किरदारों को रहने दो‌

मुझको मेरे ही भीतर तक़सीम हो जाना है
मुझको इस गंध की स्याही से हरफ़ ‌बनाने‌ दो।