भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुन्ना बोला / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:08, 29 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

        मैंने सपने में देखा है,तुम दिल्ली जानेवाले हो|
        किसी बड़े होटल में जाकर,रसगुल्ले खाने वाले हो|

        मैंने सपने में देखा है भ्रष्टाचार समापन पर है|
        झूठी बातें हवा हो गई,सच्चाई सिंहासन पर है|

        मैंने सपने में देखा है,लल्लूजी फिर फेल हॊ गये|
        सुबह सुबह ओले बरसे हैं, बाहर रेलम ठेल हॊ गये|

       मैंने सपने में देखा है,मुन्नी की मम्मी आई है|
       चाकलेट‌ के पूरे पेकिट,अपने साथ पांच लाई है|

       मैंने सपने में देखा है, तुमने डुबकी एक लगाई|
       सबसे बोला चलो नहा लें,नदी आज खुद घर पर आई|

       मैंने सपने में देखा है तुम मेले में घूम रहे हो|
       अच्छे अच्छे फुग्गे लेकर, बड़े मजे से चूम रहे हो|

       मैंने सपने मॆं देखा है, तुम बल्ले से खेल रहे हो|
       चौके वाली गेंद दौड़कर, कूद कूद कर झेल रहे हो|

       मुन्ना बोला पर दादाजी,सपने तो झूठे होते हैं|
       हम बच्चों को चाकलेट और ,बिस्कुट ही बस‌ सुख देते हैं|

        चलकर कल्लू की दुकान से,चाकलेट बिस्कुट दिलवा दो|
        दिन में जो सपने देखे हैं ,पलकों पर सॆ उन्हें हटा दो|