भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुरझाता हूं मुस्काने से / केदारनाथ मिश्र ‘प्रभात’

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:31, 12 अगस्त 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=केदारनाथ मिश्र 'प्रभात' |अनुवादक= |...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मन के भीतर मौन बोलता
स्वर की चिर ऊर्म्मिल-लहरों पर
युग-युग का चैतन्य डोलता
मन के भीतर मौन बोलता

अग्नि-पिंड-सा मैं जल उठता
नक्षत्रों का जग बन उठता
निर्मल छाया में चुपके मैं
जीवन की लघु-ग्रंथि खोलता
मन के भीतर मौन बोलता

मैं न बना हूं मिट जाने को
मुरझाता हूं, मुस्काने से
लघु हूं, अपनी सांसों पर
मैं विराट् को आज तोलता
मन के भीतर मौन बोलता