Last modified on 13 अक्टूबर 2017, at 09:25

मुरझा गए सब फूल / दिनेश श्रीवास्तव

गालियों का बोझ
चायवाले छोकरे के
सिर पर पटक दो.
बिलबिलाते हुए केचुओं को,
जूतों से मसल दो.
सो जाओ,
सारा गुस्सा
बीबी पर उतार कर.

सुबह-शाम
दिन-हफ्ता-साल
बढ़ती बेचैनी,
मुठ्ठियों में बढ़ता आक्रोश,
आँखों में भरता धुआँ,
बालों में बढ़ती सफेदी,
नियति, नियति, नियति
पीढ़ी दर पीढ़ी,
दर पीढ़ी.

कुछ कर गुजरने की
तमन्ना थी मुठ्ठी में- यहाँ आते समय
हताशा में हाथ फैलाओगे
जब तुम जाओगे.