भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मुहब्बत के फ़साने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़ / जावेद क़मर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:09, 7 अक्टूबर 2021 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=जावेद क़मर |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मोहब्बत के फ़साने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़
सितमगर इस ज़माने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

बता फिर कैसे होगी ख़त्म ये नफ़रत की तारीकी
नए सूरज उगाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

लगे कैसे पता है कौन अपना कौन बेगाना
किसी को आज़माने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

बता फिर किस ने भड़काई चमन में आग नफ़रत की
किसी का घर जलाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

कहाँ वह नग़्मगी मिलती है अब सेहन-ए-गुलिस्ताँ में
कोई नग़्मा सुनाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

जनम दे नफ़रतों को और तअ' स्सुब को जो फैलाए
सबक़ ऐसा पढ़ाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

नहीं है काम कोई भी सियासत में मिरा तेरा
किसी पर ज़ुल्म ढाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़

'क़मर' हक़ कौन फिर छीने मिला कर आँख बातिल से
नज़र उस से मिलाने से न मैं वाक़िफ़ न तू वाक़िफ़