भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मृगतृष्णा / संजीब कुमार बैश्य / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:20, 7 जून 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हज़ारों
उदास चेहरों के बीच भी
मैं ढूँढ़ रहा था सुख

मेरी रन्ध्रों में
सड़कों पर भटकना लिखा था

मेरे दिल में
एक छवि थी

और मेरी आशाओं में थी
एक मृगतृष्णा।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब अँग्रेज़ी में मूल कविता पढ़िए
      Mirage

A thousand faces fade
And I look for more
In vain, from street to street.
In my heart, an image
In my hope, mirage.

–Sanjib Kumar Baishya