भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मृत्यु में जीवन हूँ / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा हूँ हवा मैं
मलय समीरण हूँ मैं
मृत्यु में जीवन हूँ
मेरी गति को तुम
पांव में उतार लो
मुझसे उल्लास लेकर
जीवन संवार लो
दबी हुई राख में चिनगी
सुलगा कर मैं
हिम को गला कर मैं
आग मैं जलाऊंगी
निष्प्राण जीवन में
प्राण फूंक जाऊंगी
रुक नहीं पाऊंगी
मैं चलती जाऊंगी
चलना ही धर्म मेरा
धर्म निभाऊंगी
ज़िन्दगी के गीत गाती
सतत बहती जाऊंगी
हवा हूँ हवा मैं।