भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेरा मुन्नू / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:23, 4 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरा मुन्नू बड़ा दुलारा।

अम्मा मेली दद्दू मेला।
गैया मेली बचला मेला।
जो लखता - कहता मेला है
ऐसा चल बल अलबेला है।
है न किसे प्राणों से प्यारा।
मेरा मुन्नू बड़ा दुलारा।
सिहांसन है गोद हमारी।
इस पर वारूँ दुनियां सारी।
इसी गोद का है वह राजा।
कहता सब से तू! तू! आ जा!
क्यों न कहूं आँखों का तारा।
मेरा मुन्नू बड़ा दुलारा।