भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मेरी गुड़िया पाठ पढ़ेगी / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:24, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

मेरी गुड़िया पाठ पढ़ेगी,
नन्हें-नन्हें छोटे से।
पापा लेकर आये कापी,
मम्मी लाई पेन।
दादाजी पुस्तक ले आये,
उन्हें तब पड़ा चैन।
छोटी पुस्तक के अक्षर हैं,
सुन्दर मोटे-मोटे से।
अभी पड़ेगी बड़े प्रेम से,
अ अनार का पाठ।
आज दिख रहे हैं गुड़िया के,
परियों जैसे ठाठ।
हल्ला गुल्ला सुनकर दादी,
जाग उठीं हैं सोते से।

कर डाले अक्षर उच्चारण,
उसने अपने आप।
पढ़े सभी स्वर, व्यंजन जैसे,
हों गायत्री जाप।
कितना ज्ञान भरा गुड़िया के,
है दिमाग़ में छोटे से।