भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"मेरो बेहोशी आज / ईश्वरवल्लभ" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
(इसी सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatGeet}}
 
{{KKCatNepaliRachna}}
 
{{KKCatNepaliRachna}}
 
<poem>
 
<poem>

17:12, 5 जून 2017 के समय का अवतरण

मेरो बेहोशी आज मेरो लागि पर्दा भो'
छोपिए पीर सबै, दुःख सबै पर्दा भो'

यो नशा जिन्दगीको या हो नशा रक्सीको
के हो यो, पीरति हो नयाँ नयाँ प्रेयसी हो
जे थिए स्वप्न सबै ती पग्लिएर पानी भो'
के बिहान साँझ सबै जिन्दगी नै पर्दा भो'

मेरो यो मात यहाँ के हो तिमी भनिदेऊ
मेरो यो आश यहाँ के हो तिमी भनिदेऊ
जे थिए यात्राहरू ती अल्झिएर बाधा भो'
हराए गीत सबै हार सबै पर्दा भो'