भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मेह मातो / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:59, 25 जनवरी 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओम पुरोहित कागद |संग्रह=आंख भर चितराम (मूल) / ओम प…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आभो ताकै
अटल रातो
मेह मातो
कुण बा’वै हळ
खेत में
कुण पुगावे भातो।

धरती बंजर
तन पिंजर
बादळ दिख्यां पांगरै
बादळ पण
नी लांघे हेमाळो
मोर भूलग्या
बरसाळो
कुंड उडीकै
बगतो परनाळो।