भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं आब-ए-इश्क़र में हल हो गई हूँ / हुमेरा 'राहत'

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:44, 13 अगस्त 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हुमेरा 'राहत' }} {{KKCatGhazal}} <poem> मैं आब-ए-इश...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं आब-ए-इश्क़र में हल हो गई हूँ
अधूरी थी मुकम्मल हो गई हूँ

पलट कर फिर नहीं आता कभी जो
मैं वो गुज़रा हुआ कल हो गई हूँ

बहुत ताख़ीर से पाया है ख़ुद को
मैं अपने सब्र का फल हो गई हूँ

मिली है इश्क़ की सौग़ात जब से
उदासी तेरा आँचल हो गई हूँ

सुलझने से उलझती जा रही हूँ
मैं अपनी ज़ुल्फ़ का बल हो गई हूँ

बरसती है जो बे-मौसम ही अक्सर
उसी बारिश में जल थल हो गई हूँ

मिर ख़्वाहिश है सूरज छू के देखूँ
मुझे लगता है पागल हो गई हूँ