भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं तो पाडूं थी हरी हरी दूब / हरियाणवी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:58, 17 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=हरियाणवी |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तो पाडूं थी हरी हरी दूब बटेऊ राही राही जा था
तूं तो बहुत सरूपी नार गैल मेरी चालै ना
मैं तो एक कहूंगी बात बटेऊ तूं सुणता जा
तेरै मारूंगी जूत हजार बटेऊं तूं गिणता जा
मेरे बाबुल के घर का बाग मेवा तो रुत की सै
मेरे भाई भतीजे साठ कुआं म्हारा घर का सै