भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं थक गया हूँ / तेनजिन त्सुंदे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:19, 5 नवम्बर 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं थक गया हूँ
थक गया हूँ दस मार्च के उस अनुष्ठान से
धर्मशाला की पहाड़ियों से चीख़ता हुआ ।

मैं थक गया हूँ
थक गया हूँ सड़क किनारे स्वेटर बेचता हुआ
चालीस सालों से बैठे-बैठे — धूल और थूक के बीच इन्तज़ार करता

मैं थक गया हूँ
दाल-भात खाने से —
और कर्नाटक के जंगलों में गाएँ चराने से ।

मैं थक गया हूँ
थक गया हूँ मजनू के टीले की धूल में
घसीटता हुआ अपनी धोती ।
मैं थक गया हूँ
थक गया हूँ लड़ता हुआ उस देश के लिए
जिसे मैंने कभी देखा ही नहीं ।