भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

मैं देह का पर्दा हूँ, मैं खुद को हटा लूं क्या / कुँअर बेचैन

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:40, 8 नवम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कुँअर बेचैन |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मयखाना तेरी आँखें, मय जाम में ढालूं क्या,
हैं होंठ तेरे अमृत, मैं प्यास बुझा लूं क्या

अब नींद भी आँखों से, ये पूछ के आती है,
आने से ज़रा पहले, कुछ ख़्वाब सजा लूं क्या

तस्वीर तेरी माना, बोली है न बोलेगी,
मैं उससे भी पूछूं हूँ, सीने से लगा लूं क्या

बाहर के अँधेरे से, भीतर के उजाले तक,
मैं देह का पर्दा हूँ, मैं खुद को हटा लूं क्या