भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है / हरिवंशराय बच्चन

Kavita Kosh से
Tusharmj (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:59, 9 दिसम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरिवंशराय बच्चन }} मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसक…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है।


जिसने अलियों के अधरों में

रस रक्‍खा पहले शरमाए,

जिसने अलियों के पंखों में

प्‍यास भरी वह सिर लटकाए,

आँख करे वह नीची जिसने
यौवन का उन्‍माद उभारा,

मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है।


मन में सावन-भादो बरसे,

जीभ करे, पर, पानी-पानी!

चलती फिरती है दुनिया में

बहुधा ऐसी बेईमानी,

पूर्वज मेरे, किंतु, हृदय की
सच्‍चाई पर मिटने आए,

मधुवन भोगे, मरु उपदेशे मेरे वंश रिवाज नहीं है।

मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है।


चला सफर पर जब तब मैंने

पथ पूछा अपने अनुभव से

अपनी एक भूल से सीखा

ज्‍यादा, औरों के सच सौ से

मैं बोला जो मेरी नाड़ी
में डोला जो रग में घूमा,

मेरी वाणी आज किताबी नक्‍शों की मोहताज नही है।

मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है।


अधरामृत की उस तह तक मैं

पहुँचा विष को भी मैं चख आया,

और गया सुख को पिछुआता

पीर जहाँ वह बनकर छाया,

मृत्‍यु गोद में जीवन अपन‍ी
अंतिम सीमा पर लेटा था,

राग जहाँ पर तीव्र अधिकतम है उसमें आवाज़ नहीं है।

मैं सुख पर, सुखमा पर रीझा, इसकी मुझको लाज नहीं है।