भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मै कौन हूँ / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:23, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शक्ति राम की है मुझमें भी,
घूमे जो निर्जन वन में।
भक्ति श्याम की है मुझमें भी,
सदा हँसे जो जीवन में।
जिसकी प्रेम दया की शिक्षा,
से जागी वसुधा सारी।
गौतम के उस उच्च ह्रदय का,
मैं हूँ पूरा अधिकारी।
पर्वत, वन, बिजली, बादल, नद,
सूरज ,चाँद और तारे।
बचपन से ही देखा मैंने,
हैं मेरे साथी सारे।
जहाँ कहो मैं वहां चलूँगा,
जरा नहीं डर सकता हूँ।
इक्छा करने की देरी है,
मैं सब कुछ कर सकता हूँ।