भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"मोबइलबा हमरा ले बन गेल काल हे / सिलसिला / रणजीत दुधु" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रणजीत दुधु |अनुवादक= |संग्रह=सिलस...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

12:18, 14 जून 2019 के समय का अवतरण

ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,
सभे के बड़का ई जी के जंजाल हे।

जइसहीं आँख लगे बजे टनाटन,
मयसेज आउ मिसकॉलआवे दनादन,
गलती से बटन दबे तऽ पॉकेट कंगाल हे।
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

लगयते-लगयते हम हो जाही लस्त पस्त,
कहे हे इस रूट की सभी लाइनें हैं व्यस्त
कृपया कुछ देर बाद डायल करें चाल हे,
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

हमर मेहरी ले हके ई सबसे बड़का अस्तर
कभी माय कभी भाय कभी भउजाय लाइन पर
हमर आधा कमाय ओकरे में समाल हे,
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

मोबाइल खर्चा के देलियो एकदिन बीबी के ताना
मोबाइले से एफ आई. आफ. दर्ज करा देलकी थाना
कुरकी आउ जप्ती के वारंट भी आल हे,
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

लुचवन आउ गुण्डवन ले ई हे रामबाण,
कोय न´ सके हे ओकरा पहचान,
घरे बयठल ऊ पहुँचल गेल भोपाल हे
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

केकरा न´् एकरा से पड़ल हे वास्ता,
खेलउनो से जादे ई हो गेल हे सस्ता,
कलम न´् कूपन के विकरी बबाल हे
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

केतरा तेजी से बदल रहल दुनियाँ के ट्रेंड,
लड़का के गर्लफ्रेंड आउ लड़की के बॉयफ्रेंड,
लड़का-लड़की के बीचे मोबाइलबे दलाल हे
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

बुतरू अखने जलमें हे लेलही मोबाइल,
आँख खोलते करे हे ईश्वर के डाइलाग
स्वरग के अप्सरा से नरसे कमाल हे
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

एक दिन बी.ई.ओ. साहब कयलखुन फोन
तोहर इसकुल में झरल हको नोन
मोबाइल से छात्र कहलक पनटिटोर दाल हे
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

दुनिया के दूरी के ईहे मिटयलक,
डाक तार विभाग के ई हे सुखयलक,
लव लेटर प्रेमी आउ प्रेमिका भुलाल हे,
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,

जहिया से हमर हाथ में आल हे मोबाइल
दिल के हर धड़कन हो गेल हे घायल
हरपल अब हमर जीया रहऽ हे छनकल
न´ जानूँ कखने के कर देता डायल।
ई मोबाइलबा तो हमरा ले बन गेल काल हे,