भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मोर / हरिवंश राय बच्चन / विलियम बटलर येट्स

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:29, 20 अप्रैल 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विलियम बटलर येट्स |अनुवादक=हरिवं...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसको धन क्या
जिसने अपने नयनों के
                     मानाभिमान से
एक बड़ा-सा मोर बनाया ।
वात-प्रताड़ित, पत्थर-भूरी
पड़ी-अकेली चट्टानें भी
उसकी इच्छा दुलराएँगी ।
जिए, मरे या
गीली चट्टानों में,
सूने मैदानों में,
उसके प्राण प्रसन्न रहेंगे,
पर पर पर जुड़ते जाएँगे उसके
          अपने नयनों के
                     मानाभिमान से ।

मूल अँग्रेज़ी से हरिवंश राय बच्चन द्वारा अनूदित

लीजिए अब पढ़िए यही कविता मूल अँग्रेज़ी में
                  William Butler Yeats
                        The Peacock

What's riches to him
That has made a great peacock
With the pride of his eye?
The wind-beaten, stone-grey,
And desolate Three Rock
Would nourish his whim.
Live he or die
Amid wet rocks and heather,
His ghost will be gay
Adding feather to feather
For the pride of his eye.