भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौसम बदल गया है तो तू भी बदल के देख / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:43, 7 दिसम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=दरवेश भारती |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौसम बदल गया है तो तू भी बदल के देख
क़ुदरत का है उसूल ये साथ इसके चल के देख

रुस्वाइयाँ मिली हैं, ज़लालत ही पायी है
अब लड़खड़ाना छोड़ ज़रा-सा सँभल के देख

छल-छद्म से तो आज तलक कुछ न बन सका
साँचे में हक़परस्ती के इक बार ढल के देख

निकला जो शब की कोख से वो पा गया सहर
उठ,फ़िक्रो-फ़न के ग़ार से तू भी निकल के देख

बरसों से तेरे ज़ुल्मो-सितम थे रवाँ-दवाँ
पाँवों से एक फूल तो अब के कुचल के देख

हर युग में की हैं नर्मदिलों ने ही नेकियाँ
ऐ संगदिल, तू बर्फ़ की सूरत पिघल के देख

चौपाई, दोहा, कुण्डली छाये रहे बहुत
'दरवेश' अब कलाम में तेवर ग़ज़ल के देख