भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"यजमान कंजूस / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:11, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

बरफी ठूंस-ठूंस कर खाई।
सात बार रबड़ी मंगवाई।
एक भगोना पिया रायता।
बीस पुड़ी का लिया जयका।
चार भटों का भरता खाया।
दो पत्तल चांवल मंगवाया।
जल पीने पर आई डकार।
छुआ पेट को बारंबार।
बोले नहीं पिलाया जूस।
यह यजमान बहुत कंजूस