भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

यही बात ख़ुद समझना यही बात आम करना / शबीना अदीब

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 10:28, 5 अगस्त 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शबीना अदीब |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatGha...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यही बात ख़ुद समझना यही बात आम करना
जो गुरूर में हो डूबा उसे मत सलाम करना

मैं बस इतना चाहती हूँ रहे चैन ज़िन्दगी में
न बहुत ख़ुशी लुटाना न सुकूँ हराम करना