भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह सावन सोक नसावन है मनभावन यामें न लाज भरौ / हरिश्चन्द्र

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:47, 15 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरिश्चन्द्र }} <poem> यह सावन सोक नसावन है मनभावन या...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह सावन सोक नसावन है मनभावन यामें न लाज भरौ ।
जमुना पे चलौ सु सबै मिलिकै अरु गाइ बजाइ कै शोक हरौ।
हरि आवत हैँ हरिचंद पिया अहो लाड़िली देर न यामें करौ ।
बलि झूलौ झुलावौ झुकौ उझकौ यहि पाखैँ पतिब्रत ताखैँ धरौ ।


हरिश्चन्द्र का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।