भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह है माया को संसार! / राधेश्याम ‘प्रवासी’

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:22, 14 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राधेश्याम ‘प्रवासी’ |अनुवादक= |सं...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यहै है माया का संसार,
समुझि डगरोहियो बढेउ अगार,
पाँय के आगे फिसलनि है,
राह सूखी पै रपटनि है!

फूलि का यौवन मैहाँ फूल,
रहे हैं कहुँ डालिन पर झूल,
देखि के तुम इनका अनुकूल
न जायउ कहुँ अपनो पनु भुल,
फाटि जाई फँसि कै आँचल,
विकट ऐसी यह उरझनि है!

बचपना ओरू ऐस गरिजाय,
जवानी सपनेन मा धुलि जाय,
श्याम पर गई सफेदी छाय,
बुढ़ापा लै गै मौत उठाय,
अचाका झप्पा मरि है काल,
बाज की ऐसी झपटनि है!

बदलु ना पारस, बदले काँच,
सपन मा सौ-सौ नाच न नाच,
साँच ना यहु ना, बहु है साँच,
साँच पर कबहु न आई आँच,
हियइ मा अमरउती है धार,
बहि रही जगकी मटकनि है!

सुवा सेमर तजि कै उड़ि परा,
पतिंगा कहूँ दिया पर जरा,
कमल माँ फँसिकै भँउरा डरा,
बीन का सुनिकै हिरना मरा,
समुझि तुइ जहिका रस्सी रहा,
साँप की वह तौ घिसलनि है!