भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यादें / कल्पना लालजी

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:00, 17 अगस्त 2012 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कल्पना लालजी }} {{KKCatMauritiusRachna}} <poem> ऐ मेरे...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ऐ मेरे गाँव की गलियों ,मेरे बागों की कलियों
भूल न् जाना तुम मुझको ,याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे ,मैं फिर आऊंगी मिलने

बछ्पन की यादें मानो मुझसे ,आज भी हैं बातें करती
माटी की सौंधी भीनी खुशबू ,आज भी भी है मन को हरती
आज भी नैनो से मेरी गंगा जमना बहती है
इंतज़ार में पलकें मेरी दरवाज़े पर रहतीं हैं
याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे ,मैं फिर आऊंगी मिलने
  
कैसे उन छोटी बातों पर ,हम आपस में लड़ते थे
साँझ –सवेरे खेल –खेल में ,बिना बात झगड़ते थे
ख़ामोशी का पहरा आज ,हरदम छाया रहता है
लिखना आँगन के आमों पर ,क्या अब भी बौर महकता है
याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे ,मैं फिर आऊंगी मिलने


नाता तुमसे जन्मों का ,माँगू मैं फैलाकर झोली
बाँहों में मैं जिनके झूली ,बाबुल की वह लोरी न् भूली
बरसातों में बादल क्या पहले सा गरजता है
कहना क्या अब भी छत पर सावन वाही बरसता है
याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे मैं फिर आऊंगी मिलने

डोर वही अब भी रिश्तों की बीच हमारे है रहती
आँख मिचोली वाली शामे हमसे तुमसे हर पल कहती
आकर ढूँढो आज हमें हम सात समुन्दर पार बसे
बोलो क्या अब भी बातों में बछ्पन वही झलकता है
याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे मैं फिर आऊंगी मिलने

कैसे मन को समझाऊँ कैसे विश्वास दिलाऊं
जी चाहे पंछी के जैसे उड़ कर पार चली आऊं
बंधन अब भी साँसों को हर पल बांधे रखता है
कहना क्या अब भी मेरे बिन जीवन सूना लगता है
याद मुझे करते रहना
मैं फिर आऊंगी मिलने तुमसे मैं फिर आऊंगी मिलने