भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये तो नहीं कि बादिया-पैमा न आएगा / अबू मोहम्मद सहर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:55, 3 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अबू मोहम्मद सहर }} {{KKCatGhazal}} <poem> ये तो न...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये तो नहीं कि बादिया-पैमा न आएगा
ये दश्त-ए-आरज़ू कोई हम सा न आएगा

चलना नसीब-ए-ज़ीस्त है यूँ ही चले चलो
इस रास्ते में शहर-ए-तमन्ना न आएगा

राह-ए-वफ़ा में क़तरा-ए-शबनम भी है बहुत
जिस से बुझेगी प्यास वो दरिया न आएगा

ख़ुद हो सके तो अपने अंधेरे उजाल लो
अब कोई साहब-ए-यद-ए-बैज़ा न आएगा

ऐ अहल-ए-दिल-ख़ामोश कि ये जा-ए-सब्र है
दुख तो यूँही रहेंगे मसीना न आएगा

गाहे वुफ़ूर-ए-शौक़ तो गाहे हुजूम-ए-यास
सब कुछ तो आएगा हमें जीना न आएगा

बैठे रहें ‘सहर’ यूँही दीवार ओ दर लिए
अपना जिसे कहें कोई ऐसा न आएगा