भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये दुनिया है / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:35, 16 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये दुनिया है हम बच्चों की
इसके हम महाराजे हैं।
इसमें ढेरों खेल-खिलौने
ढम-ढम बाजे-साजे हैं।

इसमें गुप-चुप काना-फूसी
छुप-छुप बात-बतौवल है।
इसमें एक पल रूठा-रूठी,
एक पल मान-मनौवल है।

इसमें झूठे राजा-रानी
झूठे कपड़े-शपड़े हैं।
इसमें झूठी खींचा-तानी
झूठे नाटक, झगड़े हैं।

इसमें नहीं किताबी कीड़े,
ना आँसू की गोली है।
इसमें किस्से, गीत, ठहाके,
मौजम-मौज, ठिठोली है।