भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये नफ़रत का असर कब तक रहेगा / सुनीता काम्बोज

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:48, 31 दिसम्बर 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुनीता काम्बोज |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये नफ़रत का असर कब तक रहेगा
नगर सहमा हुआ कब तक रहेगा

हक़ीक़त जान जाएगा तुम्हारी
ज़माना बेख़बर कब तक रहेगा

बग़ावत लाज़मी होगी यहाँ पर
झुका हर एक सर कब तक रहेगा

ये इक दिन हार जाएगी ही लड़कर
हवाओं का ये डर कब तक रहेगा

ज़मीं पर लौट कर आना ही होगा
बता आकाश पर कब तक रहेगा

यहाँ फिर लौट आएँगी बहारें
मेरा सूना ये घर कब तक रहेगा

लगा लो फिर सुनीता बेल बूटे
पुराना ये शजर कब तक रहेगा