भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यों तो खुशी के दौर भी होते है कम नहीं / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Vibhajhalani (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:27, 22 जून 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: यों तो खुशी के दौर भी होते है कम नहीं ऐसा है कौन, दिल में मगर जिसके ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यों तो खुशी के दौर भी होते है कम नहीं

ऐसा है कौन, दिल में मगर जिसके गम नहीं!


हम हैं कि जी रहे हैं हरेक झूठ को सच मान

वरना जो सच कहें, तेरे वादों में दम नहीं


कुछ तो ज़रूर है तेरी बेगानगी का राज़

बेबस हो तू भले ही मगर बेरहम नहीं


यह साज़ बेसुरा भी ग़नीमत है दोस्तों!

कल लाख पुकारे कोई, बोलेंगे हम नहीं


कितना भी लोग प्यार से देखें गुलाब को

अब अपनी रंगों-बू का उसको भरम नहीं