भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यो कस्तो व्यथा हो / ईश्वरवल्लभ

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:02, 16 अक्टूबर 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यो कस्तो व्यथा हो,
लिएर मनमा हिँडिरहेछु हिँडिरहेछु

यी भत्किरहेका पाइलालाई सोधेँ
के भो भनेर, केही हैन भन्छन्
यी चर्किरहेका भित्तालाई सोधेँ
के भो भनेर, केही हैन भन्छन्
यी सल्किरहेका आगोलाई सोधेँ
के भो भनेर केही हैन भन्छन्

यो कस्तो रहर हो
बोकेर एक्लै हिँडिरहेछु हिँडिरहेछु