भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"रँगे अधर / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

03:55, 14 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

97
विष में बुझी
भोंकी शब्द -कटार
हँसे जीभर।
98
सोचा था कभी-
ज़माना बदलेंगे,
मिटाया हमें।
99
झूठ का तूल
बार -बार उड़ाया
नापा आकाश।
100
अब तो चलें !
तमाशा खूब बने
रोना न कभी।
101
जोगिया भेस
उदास हुई साँझ
बनी योगिनी।
102
रँगे अधर
गहन अनुराग
सिंचित नभ।
103
नेह के नाते
शब्दों की पकड़ में
कभी न आते।
104
किसे क्या दिया
सिर्फ वही तो जाने
मैं अनजान।