भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंग बरसत ब्रज में होरी का / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
Kailash Pareek (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:15, 15 दिसम्बर 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंग बरसत ब्रज में होरी का |
बरसाने की मस्त गुजरिया, नखरा वृषभानु किशोरी का ||
गुवाल बाल नन्दलाल अनुठा, वादा करे सब से झूठा |
माखन चोर रसिक मन मोहन, रूप निहारत गौरी का ||
मारत हैं पिचकारी कान्हा, धूम माचवे और दीवाना |
चंग बजा कर रंग उडावे, काम करें बरजोरी का ||
ब्रज जन मस्त मस्त मस्ताना, नांचे कूदे गावे गाना |
नन्द महर घर आनंद छाया, खुल गए फाटक मोरी का ||
कहे शिवदीन सगुण सोही निरगुण, परमानन्द होगया सुण-सुण |
नांचै नृत्य धुन धमाल, देखो अहीरों की छोरी का ||