भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"रमेश कौशिक / परिचय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
(इसी सदस्य द्वारा किये गये बीच के 2 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
'''मोटा पाठ''''''
+
{{KKRachnakaarParichay
== रमेश कौशिक ==
+
|रचनाकार=रमेश कौशिक
(जन्म 19 मार्च 1930,खुर्जा, उ0प्र0 - निधन 27 सितंबर 2010, नोएडा, उ0प्र0) के अब तक ग्यारह कविता-संग्रह, चार विदेशी कविताओं के अनुदित संग्रह,पाँच बालगीत-संग्रह,चार लोककथा तथा जीवनी-साहित्य से संबधित पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। अनेक रचनाएँ नर्सरी से लेकर एम0ए0 तक पाठ्यक्रमों में निर्धारित तथा पी-एच0डी0 के लिए शोध का विषय्।<br />1977 में सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार और 1990 में बल्गारिया लेखक संघ के सर्वोच्च पुरस्कार-पेगासस स्वर्णपदक से हुए। बालसाहित्य के लिए उन्हें उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान से 1980 में और हिंदी अकादमी, दिल्ली से 1982-83,1987-88और 1996-97 में पुरस्कार मिला।<br />रमेश कौशिक की अनेक रचनाएँ अँग्रेजी, बल्गारियाई, रूसी,लिथुनिआई, बंगला और पंजाबी भाषा में अनुदित हो चुकी हैं।<br />विदेशों में अयोजित अनेक अंतर्राष्ट्रीय लेखक-सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा अध्यक्ष होने का गौरव प्राप्त किया।
+
}}
 +
'''रमेश कौशिक'''
 +
(जन्म 19 मार्च 1930,खुर्जा, उ0प्र0 - निधन 27 सितंबर 2010, नोएडा, उ0प्र0) के अब तक ग्यारह कविता-संग्रह, चार विदेशी कविताओं के अनुदित संग्रह,पाँच बालगीत-संग्रह,चार लोककथा तथा जीवनी-साहित्य से संबधित पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। अनेक रचनाएँ नर्सरी से लेकर एम0ए0 तक पाठ्यक्रमों में निर्धारित तथा पी-एच0डी0 के लिए शोध का विषय्।<br />1977 में सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार और 1990 में बल्गारिया लेखक संघ के सर्वोच्च पुरस्कार-पेगासस स्वर्णपदक से हुए। बालसाहित्य के लिए उन्हें उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान से 1980 में और हिंदी अकादमी, दिल्ली से 1982-83,1987-88और 1996-97 में पुरस्कार मिला।<br />रमेश कौशिक की अनेक रचनाएँ अँग्रेजी, बल्गारियाई, रूसी,लिथुनिआई, बंगला और पंजाबी भाषा में अनूदित हो चुकी हैं।<br />विदेशों में अयोजित अनेक अंतर्राष्ट्रीय लेखक-सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा अध्यक्ष होने का गौरव प्राप्त किया।
 
<br /> '''कृतियाँ :'''<br />काव्य-संग्रह : सुबह की धूप(1956),  समीप और समीप (1970), चाहते तो (1973), सच सूर्य है(1979), सुनहले पंख (1983), क्रमश (1990),कहीं कुछ था (1996), कहाँ हैं वे शब्द (20000),मैं यहाँ हूँ(20004),यहाँ तक वहाँ से (2008)<br />अनुवाद:101 सोवियत कविताएँ (1975),रूसी और सोवियत प्रेम कविताएँ(1978),रूसी बाल-कविताएँ(1979),बल्गारियाई कविताएँ(1985)<br />बालकाव्य-संग्रह : हम हैं चाँद सितारे (1978), सोनचिरैया (1982),51बाल-कविताएँ (1988),गीत मेरे देश के (1996),151 बाल-कविताएँ(2001)<br />कथासाहित्य: दो सिर वाला दैत्य(1990),सागर द्वीपों की लोककथाएँ (भाग-1 व 2)(1996)<br />जीवनी : महर्षि अरविंद (1994)
 
<br /> '''कृतियाँ :'''<br />काव्य-संग्रह : सुबह की धूप(1956),  समीप और समीप (1970), चाहते तो (1973), सच सूर्य है(1979), सुनहले पंख (1983), क्रमश (1990),कहीं कुछ था (1996), कहाँ हैं वे शब्द (20000),मैं यहाँ हूँ(20004),यहाँ तक वहाँ से (2008)<br />अनुवाद:101 सोवियत कविताएँ (1975),रूसी और सोवियत प्रेम कविताएँ(1978),रूसी बाल-कविताएँ(1979),बल्गारियाई कविताएँ(1985)<br />बालकाव्य-संग्रह : हम हैं चाँद सितारे (1978), सोनचिरैया (1982),51बाल-कविताएँ (1988),गीत मेरे देश के (1996),151 बाल-कविताएँ(2001)<br />कथासाहित्य: दो सिर वाला दैत्य(1990),सागर द्वीपों की लोककथाएँ (भाग-1 व 2)(1996)<br />जीवनी : महर्षि अरविंद (1994)

09:45, 26 जून 2010 के समय का अवतरण

रमेश कौशिक (जन्म 19 मार्च 1930,खुर्जा, उ0प्र0 - निधन 27 सितंबर 2010, नोएडा, उ0प्र0) के अब तक ग्यारह कविता-संग्रह, चार विदेशी कविताओं के अनुदित संग्रह,पाँच बालगीत-संग्रह,चार लोककथा तथा जीवनी-साहित्य से संबधित पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। अनेक रचनाएँ नर्सरी से लेकर एम0ए0 तक पाठ्यक्रमों में निर्धारित तथा पी-एच0डी0 के लिए शोध का विषय्।
1977 में सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार और 1990 में बल्गारिया लेखक संघ के सर्वोच्च पुरस्कार-पेगासस स्वर्णपदक से हुए। बालसाहित्य के लिए उन्हें उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान से 1980 में और हिंदी अकादमी, दिल्ली से 1982-83,1987-88और 1996-97 में पुरस्कार मिला।
रमेश कौशिक की अनेक रचनाएँ अँग्रेजी, बल्गारियाई, रूसी,लिथुनिआई, बंगला और पंजाबी भाषा में अनूदित हो चुकी हैं।
विदेशों में अयोजित अनेक अंतर्राष्ट्रीय लेखक-सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया तथा अध्यक्ष होने का गौरव प्राप्त किया।
कृतियाँ :
काव्य-संग्रह : सुबह की धूप(1956), समीप और समीप (1970), चाहते तो (1973), सच सूर्य है(1979), सुनहले पंख (1983), क्रमश (1990),कहीं कुछ था (1996), कहाँ हैं वे शब्द (20000),मैं यहाँ हूँ(20004),यहाँ तक वहाँ से (2008)
अनुवाद:101 सोवियत कविताएँ (1975),रूसी और सोवियत प्रेम कविताएँ(1978),रूसी बाल-कविताएँ(1979),बल्गारियाई कविताएँ(1985)
बालकाव्य-संग्रह : हम हैं चाँद सितारे (1978), सोनचिरैया (1982),51बाल-कविताएँ (1988),गीत मेरे देश के (1996),151 बाल-कविताएँ(2001)
कथासाहित्य: दो सिर वाला दैत्य(1990),सागर द्वीपों की लोककथाएँ (भाग-1 व 2)(1996)
जीवनी : महर्षि अरविंद (1994)