भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"रहम कर मालिक नया फरमान भेज दे / कृपाशंकर श्रीवास्तव 'विश्वास'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कृपाशंकर श्रीवास्तव 'विश्वास' |अन...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
(कोई अंतर नहीं)

13:03, 12 जून 2019 का अवतरण

रहम कर मालिक नया समान भेज दे
दिल को बहलाने का कुछ सामान भेज दे।

बेइमानों से घिरी चौपाल रो रही
गांव में इक साहिबे-ईमान भेज दे।

डस रही तन्हाइयों का दौर खत्म कर
घर हमारे एक-दो मेहमान भेज दे।

औरतों पर ज़ुल्म हो बेइंतिहा जहां
तू वहां पर ज़लज़ला तूफ़ान भेज दे।

चाह तो है, 'भोज' 'विक्रम' चंद्रगुप्त सा
तख्त पर फिर से कोई सुल्तान भेज दे।

दे बना सोने की चिड़िया इसको आज फिर
कुछ फ़रिश्ते फिर ज़े हिन्दोस्तान भेज दे।

भेज दे 'विश्वास' बेहतर जो तुझे लगे
ईद गर मुमकिन न हो रमज़ान भेज दे।